July 25, 2024 |
Search
Close this search box.
Search
Close this search box.

BREAKING NEWS

झोलाछाप डॉक्टरों के पास हर बीमारी का इलाज मुख्यमंत्री के आदेश की अवेलना, झोलाछाप डॉक्टर मरीजों की जान से कर रहे खिलवाड़।दबंग सरपंच के आतंक से परेशान पंचायत वासी, पीड़ित पक्ष ने प्रशासन से लगाई न्याय की गुहारखनिज विभाग की टीम ने अवैध रूप रेत उत्खनन कर जा रहे दो ट्रैक्टर ट्राली पर की कारवाईबांदरी में नेशनल हाईवे 44 पर कंटेनर के ड्राइवर ने अचानक से ब्रेक लगा दिए, जिससे कंटेनर के पीछे चल रही बस उसमें पीछे से जा टकराई। बस में सवार 10 यात्री घायलश्मशान घाट निर्माण करने के नाम पर सरपंच ने श्मशान घाट के पेड़ कटवाकर बेच दिए, ग्रामीणों ने लगाए आरोप…बीना के सरगोली ग्राम पंचायत के मूडरी गांव में अपने पिता का अंतिम संस्कार करने के लिए बेटे को 15 घंटे बारिश रुकने तक करना पड़ा इंतजार, पूर्व सरपंच द्वारा श्मशान घाट निर्माण की राशि निकालने के बाद भी नहीं किया गया निर्माणपूर्व एनएसजी कमांडो मनोज राय दे रहे निशुल्क ट्रेनिंग, अभी दो प्रतिभागियों का हो गया चयन, अब तक 22 प्रतिभागियों का हुआ चयनपटवारी संघ अनिश्चितकालीन हड़ताल पर,आखिरकार क्यों एक माह में तीन बार सीमांकन करने गए पटवारी पर किसानों ने किया हमला, जांच का विषयनिर्माणधीन सी एम् राइज स्कूल का गिरा छत, 6 मजदूर गंभीर रूप से घायल,क्षेत्र में लगातार लापरवाही व गुणवत्ता विहीन हो रहा निर्माण, मजदूर की सुरक्षा का नहीं रखते ध्याननगर में बायपास बनने के बाद भी भारी वाहन एवं बस 24 घंटे धड़ल्ले से शहर के मुख्य मार्ग निकल रहै,प्रशासन द्वारा भारी वाहनों पर अंकुश नही

पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह पीड़ित परिवार से मिलने पहुंचे बरोदिया नोनागिर मुंह बोली बहन अंजना अहिरवार की अंत्येष्टि में हुए शामिल

खुरई। खुरई के बरोदिया नोनागिर गांव में हत्या के चश्मदीद गवाहों में से एक की धारदार हथियारों से हत्या और दूसरे की एंबूलेंस से कूदकर मरने का मामला तूल पकडता जा रहा है। गांव पहुचे पूर्व मुख्यमन्त्री दिग्विजय सिंह ने गवाहों के मारे जाने की घटना को जिला प्रशासन की नाकामी बताकर सभी को बदलने की मांग मुख्यमन्त्री से की साथ ही उन्होंने स्थानीय विधायक भूपेन्द्र सिंह पर भी निशाना साधा।
ओर भाजपा को संविधान से खिलवाड करने वाला बताया। पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह करीब 3 घंटे 35 मिनट बरोदिया नोनागिर में रुके।

Oplus_131072

पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह पीड़ित परिवार से मिलने बरोदिया नोनागिर पहुंचे, वह सबसे पहले मुंह बोली बहन अंजना अहिरवार के घर पहुंचे ,उसके परिजनों से 40 मिनट तक चर्चा की। जहां परिजनों ने प्रशासन और पुलिस के प्रति नाराजगी जताते हुए उनके न्याय की गुहार लगाई। इसके बाद मृतक राजेंद्र अहिरवार के परिवार वालों से भी मिले। यहां करीब 20 मिनट तक चर्चा की। घटना के संबंध में परिजनों से पूछा। चर्चा करने के बाद पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह अंजना अहिरवार के घर पर पुनः पहुंचे। जहां उन्होंने घर पर बैठकर अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक संजीव ऊईके से करीब 50 मिनट तक चर्चा की ओर पुलिस प्रशासन के खिलाफ नाराजगी जताई। पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों से चर्चा करने के बाद अंजना अहिरवार की अंतिम यात्रा निकाली गई। घर से मुक्तिधाम तक वह पैदल चले और अंत्येष्टि में लकड़ी दी और उन्हें नमन किया। अंतिम यात्रा में शामिल होने के बाद वह घायल पप्पू रजक के घर पहुंचे जहां उन्होंने घटना स्थल देखा और घायल की बच्ची और पत्नी से चर्चा की। जबकि घायल पप्पू रजक का इलाज भोपाल में चल रहा है। वह करीब 3 घंटे 35 मिनट तक यहां रुके। इसके बाद भोपाल रवाना हो गए।

Oplus_131072

दिग्गी राजा बोले की 8 दिन पहले अंजना ने थाने में शिकायत की थी कि उन्हें राजीनामा के लिए बयान बदलने के लिए दवाब बनाया जा रहा है लेकिन कोई कार्यवाही नहीं की गई, जो इसके भाई लालू के साथ घटना हुई थी उसमें अंजना, राजेंद्र और अंजना की मां गवाह थी राजेंद्र पर दबाव डाला जब वह नहीं माना तो उसकी हत्या कर दी अंजना मर गई, जहां पर भी एससी एसटी के मामले होते हैं तो यह लोग विरोध क्यों करने लगते हैं मुझे यह समझ नहीं आता पिछली बार घटना के समय भी अंजना को सरकारी नौकरी देने की बात कही थी लेकिन कुछ नहीं हुआ

मुख्यमंत्री से जिला प्रशासन को बदलने की मांग करेंगे

पूर्व मुख्यमन्त्री दिग्विजय सिंह ने इस मामले पर जिला प्रशासन को जमकर घेरा है। उन्होंने स्थानीय विधायक को गैर जिम्मेदार भी बताया। गौरतलब है कि 23 अगस्त 2023 को अंजना अहिरवार से छेडछाड के मामले में राजीनामा का दबाव बनाते बनाते अंजना अहिरवार के भाई नितिन की हत्या कर दी गई ,अंजना की मां को निर्वस्त्र कर घुमाया था। इस मामले में कोर्ट में गवाही तय थी ,हत्या के मामले में बयान पलटने का दबाव बनाने दो दिन पहले अंजना के रिश्ते के चाचा राजेन्द्र अहिरवार की धारदार हथियारों से लैस होकर हत्या कर दी गई, अंजना के चाचा का अंतिम संस्कार से पहले शव चौराहे पर रखकर विरोध प्रदर्शन जताना चाहती थी।लेकिन एंबूलेंस चालक ने एंबूलेंस नहीं रोकी और अंजना कूद गई। जिससे उसकी अस्पताल में मौत हो गई। घटना से पहले अंजना की सुरक्षा में तैनात सुरक्षा कर्मी हटा लिए गए। और लगातार अंजना अहिरवार पर अंकित ठाकुर ने बयान बदलने का दबाव बनाया। गांव मे तनाव के हालत के बाबजूद पुलिस ने एफआईआर के बाबजूद तत्परता नही बरती ओर दो गवाह मारे गए। पूर्व मुख्यमन्त्री दिग्विजय सिंह नौ माह पहले अंजना के भाई नितिन की हत्या के बाद अंजना अहिरवार से राखी बंधवाकर गए और आज अंतिम संस्कार में शामिल हुए।

Public ki Awaaz
<h4>हमारी एंड्राइड न्यूज़ एप्प डाउनलोड करें </h4>

हमारी एंड्राइड न्यूज़ एप्प डाउनलोड करें

Get real time updates directly on you device, subscribe now.